असम, अरुणाचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, हरयाणा, जम्मू और कश्मीरझारखण्ड, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, त्रिपुरा, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तराँचल, वेस्ट बंगाल

हिप्नोटिज्म शिक्षा कैसे सीखें?

Learning how to learn hypnosis? Alloverindia.in

Learning How To Learn Hypnosis?

हिप्नोटिज्म शिक्षा (Hypnotism Education)

हिप्नोटिज्म (Hypnotism) न कोई जादू है न ही तंत्र – मन्त्र और टोना। वास्तव में हिप्नोटिज्म (Hypnotism) एक अध्यात्मिक शक्ति है, एक ज्ञान है, एक विद्या है। इस विद्या को प्राप्त करने के लिए तप और त्याग की शक्ति काम करती है। जिस विद्या से आप मानव कल्याण की बात सोचकर चलते हैं वह विद्या डिग्रियों और धन की शक्ति से प्राप्त नहीं की जा सकती। उसे तो प्राकृति ने आपको उपहार स्वरूप भेंट में दिया है परन्तु आप उसे पाएँ कैसे? इसके लिए पढ़े हिप्नोटिज्म भाग -2                                                                                   

हिप्नोटिज्म (Hypnotism) के जन्म तथा कर्म के विषय में आपको पिछले पृष्ठों में काफी विस्तार से बताया जा चूका है। अब आपके सामने प्रस्तुत है इसकी शिक्षा के मूल सिद्धांत तथा वे असली तरीके जिन से स्वयं ही हिप्नोटिज्म (Hypnotism) विद्या सीख सकते हैं।

इस विषय में हमारे विद्धानों ने जो नियम बनाए हैं उनका पालन करना आप सबके लिए अनिवार्य है।



  1. जिस प्राणी पर हिप्नोटिज्म (Hypnotism) करना चाहते हैं उसे सबसे पहले किसी आरामदायक सोफे अथवा गद्देदार पलंग पर लिटा दें।
  2. उसकी आँखों पर बिजली का तेज प्रकाश या सूर्य की धूप न पड़ने दें।
  3. जिस स्थान पर हिप्नोटिज्म (Hypnotism) कर रहे हैं उस स्थान पर किसी प्रकार का शोर न हो।
  4. हिप्नोटिज्म (Hypnotism) किए जाने वाले प्राणी को निर्देश देते प्रकार की जल्दबाजी न करें बल्कि जो बात कहें वह बहुत धैर्य से और साफ़ – साफ़ शब्दों में कहें।
  5. उसे आदेश देने से पहले यह बात पूरी तरह से जान ले कि वह पूरी तरह आपके वश में आ चुका हो।
  6. हिप्नोटिज्म (Hypnotism) किए गए प्राणी की हालत देखकर स्वयं ही निर्धारित करें जैसा कि जब आप यह देखें कि अब सामने बैठा व्यक्ति थक चुका है तो उस समय अपना कार्य बंद कर दें।
  7. हिप्नोटिज्म (Hypnotism) किए प्राणी के साथ किसी प्रकार की डाँट – डपट तथा क्रोध से काम न लें बल्कि उसकी हर बात को ध्यान – पूर्वक सुन कर ही अगला आदेश दें।
  8. हिप्नोटिज्म (Hypnotism) करते समय किसी प्रकार की धार्मिक भावनाओं को जागृत करना अथवा उनका सहारा लेना उचित नहीं। इसके कई लोग क्रोध में भी आ जाते हैं जिससे सारा खेल बिगड़ जाता है।

अब करें अभ्यास (Now Start The Practice)

इस चित्र में आप मानव ललाट की आंतरिक रचना का पूरा दृश्य देख सकते हैं।

जैसा की आपका पहले भी बताया जा चूका है कि मानव मस्तिष्क (Human Brain) पर काबू पाना ही हमारे कार्य की सफलता का चिन्ह है। इसके पश्चात ही हम अपने काम में सफलता प्राप्त कर सकते हैं। इस कार्य के लिए आपके पास नेत्र शक्ति होनी चाहिए अर्थात आप नेत्रों द्धारा रोगी के मन और मस्तिष्क में घुस कर उस पर अपना अधिकार जमा लें।

क्या इन आँखों से आप किसी भी रोगी को हिप्नोटाइज कर सकते हैं?

मस्तिष्क (Brain) में उतरने के लिए ऐसी ही आँखों का होना जरुरी है और इसके लिए अभ्यास की जरुरत है। आप वह अभ्यास इन तरीकों  सकते हैं:-

पहला अभ्यास (First Practice)

हिप्नोटिज्म (Hypnotism) का पहला और सफल अभ्यास कार्ड बोर्ड से शुरू होता है। इसके लिए आप सर्वप्रथम सफ़ेद रंग की सनमाईका का 2 x 2 फुट का  टुकड़ा लें।

उस टुकड़े  ठीक मध्य भाग में एक काले रंग का गोल निशान बना दें। जैसा आप चित्र में देख रहे हैं। इस गोल निशान के बीच एक लाल का बिंदु बना होना चाहिए उस बिंदु पर अपना ध्यान केंद्रित करने से पहले अपने तन मन को पूर्ण रूप से शुद्ध करें। किसी प्रकार का बुरा विचार आपके मन में न रहे।

साधक को साफ – सुथरे फर्श पर अपना आसन लगाना चाहिए।

आपके आस – पास कोई भी व्यक्ति न हो और न ही किसी प्रकार की आवाज सुनाई दे।

अपनी नज़र को लाल रंग के बिंदु पर जमाए रहे और उस समय तक अपनी नजर को जमाए रखें जब तक कि आपकी पलकें थक न जाएँ।

जब आँखे थक जाएँ तो थोड़ी देर के विश्राम के पश्चात फिर से यही क्रिया शुरू कर दें।

साधक को साधना करने से पहले अधिक पेट भर के नहीं खाना चाहिए। बस हल्का सा नाश्ता केवल दूध अथवा फल। जिससे पेट भारी न हो और न ही खाली रहे। यही आपकी सफलता का मार्ग है। इस अभ्यास को कम से कम चालीस दिन तक करें।

शुरू – शुरू में तो आपको लाल निशान कुछ हिलता हुआ नज़र आएगा परन्तु कुछ दिनों  अभ्यास के बाद ऐसा नहीं होगा बल्कि आपकी नजरें उस निशान पर ठीक से जम जाएगी। यही सफलता की निशानी है।

वास्तव में यह ध्यान योग का ही अंश है। किसी भी चीज़ पर अपना ध्यान केंद्रित करके आँखों द्धारा उसके हृदय तक पहुँच सकते हैं। आपकी नजरें इन सब अंगो तक पहुँच कर सामने बैठे किसी भी व्यक्ति को अपने बस में कर सकती हैं।

दूसरा अभ्यास (Second Practice) 

यह अभ्यास शीशे के सामने खड़े होकर किया जा सकता है। इसके लिए आपको पिछले अभ्यास की भाँति एक शीशे का चकोर टुकड़ा लेकर उसके बीचो बीच एक काले या सलेटी रंग की बिंदु लगाकर उसी प्रकार से उसके सामने आसन बिछाकर बैठना होगा।

इस प्रकार से आप अथवा कोई भी व्यक्ति अभ्यास कर सकता है।

दीपक या मोमबत्ती पर अभ्यास (Practice on The Lamps or Candles)

मोमबत्ती के सामने आप जितनी देर भी आँखे टिका कर बैठेंगे उतनी ही अधिक सम्मोहिक शक्ति आपके शरीर के अंदर प्रवेश करेगी।

सूर्य शक्ति प्राप्ति अभ्यास (Sun Power Procurement Practice)

सूर्य शक्ति प्राप्त करना हिप्नोटिज्म (Hypnotism) विद्या का एक अंग है। जो लोग अभ्यास करके इस शक्ति को प्राप्त कर लेते हैं उनके लिए हिप्नोटिज्म (Hypnotism) का विद्वान बनना कुछ कठिन नहीं रह जाता।

अभ्यास के लिए देखें चित्र देखें। सुबह के समय जब सूर्योदय हो रहा हो किसी बाग में जाकर हरी – हरी घास पर बैठ कर सूर्य देव की ओर ध्यान लगाएँ जब तक आपकी आँखे पूरी तरह थक न जाएँ इस अभ्यास को करते रहें। इसे कहते हैं सूर्य शक्ति प्राप्ति। जो चालीस दिन के अभ्यास से आप प्राप्त कर लेंगे।

बंद दृष्टि से अभ्यास (Close Eyes Practice)

हिप्नोटिज्म (Hypnotism) में जैसे खुली दृष्टि से शक्ति प्राप्त करते हैं तो आपका यह पाठ पूरा हो जाता है। हमारा दूसरा पाठ हैं तो आपका यह पाठ पूरा हो जाता है। हमारा दूसरा पाठ शुरू होता है बंद दृष्टि करके आध्यात्मिक शक्ति प्राप्त करना। इसके लिए चित्र को देखें –

सूर्योदय से थोड़ी देर पहले ही किसी एकांत स्थान बगीचा तथा खेत में जाकर बैठें।

दोनों आँखों को बंद करके कल्पना शक्ति से मन में यह कल्पना करें कि मेरी आँखों में ही नीला आकाश बसा हुआ हैं।

यह अभ्यास थोड़े दिनों तक आपको करना होगा। इसका परिणाम यह होगा कि आप थोड़े दिनों के पश्चात यह महसूस करने लगेंगे कि आपकी आँखों में नीला आकाश ही आकर बस चुका है अथवा नीले आकाश जैसी शक्ति आपके शरीर में बस गई। उसी शक्ति से जब आप अपनी दृष्टि को किसी अन्य प्राणी की दृष्टि में डालकर देखेंगे तो आपको ऐसा लगने लगेगा कि वह व्यक्ति आपकी आँखों में आकर बस चुका है। यही वह इच्छा शक्ति है जिसे प्राप्त करने से हम किसी अन्य व्यक्ति के मन में उतरकर उसके मन को भी अपने वश में कर लेते हैं।

यही नहीं इस अभ्यास की शक्ति से आप अपनी आँखे बंद करके भी जिस व्यक्ति को मन से देखना चाहेंगे वह आपकी आँखों के सामने खड़ा मिलेगा।

इस प्रकार आप इस अभ्यास से किसी भी मन चाहे व्यक्ति को अपने पास बुलाकर उससे बात तक करने में सफल हो सकते हैं। यही है हिप्नोटिज्म (Hypnotism) की सफलता का एक और पड़ाव। अब आप बंद आँखों की शक्ति से किसी अन्य व्यक्ति को अपने वश में करके अपनी इच्छा से उससे हर काम ले सकते हैं।

आत्माओं का मिलन’ नाम से तांत्रिक लोग इस प्रकार के कई कारनामें प्राचीन युग में किया करते थे। जिसके कारण लोगों के मन में उनकी ताँत्रिक शक्ति का भय बैठ जाता था।

बदलते समय साथ – साथ समाज में जब जाग्रति पैदा होने लगी, शिक्षा घर – घर पहुँच रही है तो हम इस आत्माओं के खेल को हिप्नोटिज्म (Hypnotism) कहने लगे हैं।

बंद आँखों से अन्य अभ्यास (Other Exercises with Closed Eyes)

इस प्रकार का एक और अभ्यास भी आप कर सकते है। जिसका तरीका इस प्रकार से प्रारम्भ होता है :-

चाँदनी रात के समय जब रात्रि का प्रथम पहर बीत जाए तो एकांत में किसी खुले मैदान, पार्क या मकान की ऊँची छत जहाँ पर चारों ओर से कोई आवाज़ न आती हो और न ही आस – पास में कोई प्राणी हो।

ऐसी जगह आप आलती – फालती मारकर अथवा किसी आराम कुर्सी पर बैठकर अपनी आँखे बंद करके दूर आकाश की ओर देखें। मन में यह धारण करें कि आप इस समय आकाश के चाँद – सितारों को देख रहे हैं।

कुछ दिनों के अभ्यास से आपके मन में एक ऐसी शक्ति पैदा हो जाएगी कि आप अंधेरी रातों में भी यह अनुभव करेंगे कि आज तो चाँदनी रात है। चाँद का प्रकाश चारो ओर फैला हुआ है।

फलों और फूलों से शक्ति प्राप्त करने का अभ्यास (Fruits and Flowers of Power Drills)

एक सफल हिप्नोटिज्म (Hypnotism) के ज्ञानी के लिए सूर्य शक्ति चाँद शक्ति तथा पशु – पक्षियों की शक्ति प्राप्त करने के साथ – साथ सब प्रकार की शक्तियाँ प्राप्त करना तभी सम्पूर्ण माना जाता है जब वह फलों – फूलों तथा पौधों पर भी इस प्रकार से अभ्यास करता रहे।

एक साधक किस प्रकार से यह शक्ति प्राप्त कर सकता है? इसकी अभ्यास क्रिया वही है जो आप पहले अभ्यासों में बंद आँखों और खुले मन से कर चुके हैं।

I am Jitender Sharma and I am Alloverindia.in Web Founder, I always trying to provide you right information by our Web blog. If you are interested to contribute at Alloverindia.in website then your most welcome to write your articles and publish. Everybody can contact me by Skype: Robert.Jastin and Email: Jsconcept2013@gmail.com

Facebook Twitter LinkedIn Google+ Vimeo Skype 


Our Score
Our Reader Score
[Total: 1 Average: 5]
Please follow and like us:

All Over India Website Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.