Buy Ad Right & Left Side For Your Business And Get Lot of Customers From Your Local Area

असम, अरुणाचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, हरयाणा, जम्मू और कश्मीरझारखण्ड, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, त्रिपुरा, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तराँचल, वेस्ट बंगाल

Category Archives: business and finance

7 Reasons Your Credit Card Application Was Rejected

7 Reasons Your Credit Card Application Was Rejected read at alloverindia.in

There is no doubt that a credit card is the key source of finance which really helps you to realize your desires. A credit, certainly, does offer much-needed support to tide over the financial issues. However, at times, you have

स्वदेशी की प्रांसिगकता स्वदेशी का मतलब है देश को आत्मनिर्भर बनाने की प्रबल भावना।

All Over India Strong Sense of Making The Self Country

वर्तमान समय में चकाचौन्ध वाले विज्ञापनों एवम आपसी होड़ तथा विभिन्न बड़ी विदेशी कंपनियों के पैसों के परिणाम स्वरूप टीवी चैनलों के माध्यम से दिखाए जा रहे प्रायोजित नाटकों के चलते हम वैश्विक उपभोक्तावाद के चंगुल में फंसतें जा रहे

आर्थिक सामाजिक तथा धार्मिक क्षेत्र में स्वदेशी सिद्धान्त ही अपना बेहतर।

Economic Religious Principles Superior

विश्व में अंतरराष्ट्रीय आर्थिक संस्थाओं दबाव में जब से कथित उदारीकरण का दौर प्रारम्भ  हुआ है तब से अनेक देशों पर जनकल्याण कार्यों से दूर हटने का दबाव बढ़ गया है। ग्रीस यानी यूनान यानि दुनिया की प्राचीन सभ्यताओं में

स्वदेशी वस्तु खरीदने का देश में क्या आर्थिक प्रभाव पड़ेगा? जानिए, कैसे?

Economic Impact In The Country To Buy Goods

यदि हम स्वदेशी भाव अपनाते हुए अपनी आवश्यकताओं के लिए स्वदेशी वस्तुएं ही खरीद कर राष्ट्रनिष्ठा का परिचय देवें तो एक वर्ग में ही दृश्य बदल जायेगा। आज देश में जुटे का चेरी पॉलिश, कोलगेट के टूथपेस्ट, विदेशी कारों आदि

जीएसटी पर बनी सहमति 5, 12, 18 और 28 प्रतिशत की चार स्लैब होंगी।

Consensus on GST 3 November 2016

अप्रत्यक्ष करो के क्षेत्र में प्रस्तावित नई वस्तु तथा सेवाकर जीएसटी प्रणाली के तहत 5,12,18 और 28 प्रतिशत की चार स्तरीय कर व्यवस्था रखे जाने का निर्णय किया है। जीएसटी परिषद के तीन नवम्बर को इस चार स्तरीय जीएसटी कर

काले कारोबार और आतंकी गतिविधियों पर चोट करने के लिए मोदी जी का कड़ा कदम।

Extreme Step of Modi Black Businesses

अभी हाल ही में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने देश में चल रही 500 तथा 1000 के करेंसी नोटों को बंद कर नई करेंसी 500 तथा 2000 के नए नोट लाकर देश में चल रही कालेधन की अर्थव्यवस्था को

विज्ञान और प्रधौगिकी मंत्रालय, ‘मोबाइल ऑनलाइन बैंक’ शुभारम्भ।

india Ministry of Science and Technology read at alloverindia.in

विज्ञान और प्रधौगिकी मंत्रालय के अंतर्गत राष्ट्रीय विकास निगम (येनआरडीसी) ने 3 मई, 2016 को घर संसोधन रेशम के कीड़ों के रहने के लिए कीटाणुनाशक कमरा तथा उपकरण के वाणिज्यीकरण के लिए मैसर्स नवग्राम रेशम से  शिल्प उपनय कॉर्पोरेटिव सोसाइटी

Nectar Commercial Estates Limited Business Terms and Conditions

Nectar Commercial Estates Limited Business read at alloverindia.in

The application form terms and conditions for plot booking the management Nectar commercial Estates Limited New Delhi. I hereby apply for the purchase of plot-plots on EMI full payment. I have gone through the terms and conditions for purchase of

Welcome To The World of Right Future Plan & Career 2015-16

The World of Right Future Plan at alloverindia.in

Surging towards a new era (An ISO 9001:2008 certified service provider company) life changing career, your association with us will help to materialize your dream job and making yourself indefensible to the world. Do you ever feel that your work

IMPORTANCE OF CORPORATION FINANCE-FINANCIAL MANAGEMENT

निगम वित्त, वित्तीय प्रबंध का महत्व (IMPORTANCE OF CORPORATION FINANCE-FINANCIAL MANAGEMENT):- वित्त किसी व्यवसाय का जीवन रक्त एवं स्नायु-तन्त्र होता है। जिस प्रकार जीवन को बनाये रखने के लिए मानवीय शरीर में रक्त का प्रवाह आावश्यक है, उसी प्रकार व्यवसाय

DEFINITION OF CORPORATION-BUSINESS FINANCIAL MANAGEMENT

BUSINESS FINANCIAL MANAGEMENT read at alloverindia.in website

निगम, व्यावसायिक वित्त, वित्तीय प्रबंध की परिभाषा: निगम वित्त को किसी एक निगमीय उपक्रम में प्रयोग किये जाने वाले समस्त धन या कोषों का सृजन करने व्यस्था करने तथा प्रशासन करने की प्रक्रिया के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।ह्रीलर

वित्तीय प्रबंध की प्रकृति एवं क्षेत्र (NATURE AND SCOPE OF BUSINESS FINANCE)

NATURE AND SCOPE OF BUSINESS FINANCE read at alloverindia.in

परिचय (INTRODUCTION) आज की अर्थव्यवस्था में वित्त का आशय आवश्यकता अनुसार धन के प्रावधान से है। प्रत्येक व्यवसायिक संस्थान को चाहे, वह बड़े, मध्यम अथवा लघु आकर का हो, उसके कार्यों को संचालित करने और उसके उद्देश्यों की पूर्ति के लिए

Cost Price, Incremental Cost, Market Price, Standard Price

Cost Price function at alloverindia.in

1 लागत मूल्य (Cost Price):- इस विधि के अनुसार, हस्तांतरण करने वाले उपविभाग की प्रति इकाई उत्पादन लागत के आधार पर कम्पनी के एक उपविभाग से दूसरे उपविभाग को वस्तुओं और सेवाओं का हस्तांतरण किया जाता हैं। यह लागत या

Advantages of Profit Centers, Disadvantages of Profit Centers

Advantages of Profit Centers read at alloverindia.in website

लाभ केंद्रों के लाभ (Advantages of Profit centers) i) यह लाभ केंद्र के प्रबंधक के रूप में पहल करने के लिए प्रोत्साहित करता है,जिस पर शीर्ष प्रबंध का कम मात्रा का नियंत्रण होता है। ii) यह निर्णयों की गुणवत्ता में सुधार लाता

Steps Involved in Responsibility Accounting, Types of Responsibility Center

Types of Responsibility Center at alloverindia.in

उत्तरदायित्व लेखांकन में निहित कदम (Steps Involved in Responsibility Accounting) उत्तरदायित्व लेखांकन का एक नियंत्रण युक्ति की भाँति प्रयोग किया जाता है। उत्तरदायित्व लेखांकन का लक्ष्य संगठनात्मक लक्ष्यों को प्राप्त करने में प्रबंध की सहायता करना है। उत्तरदायित्व लेखांकन में निम्नलिखित कदम

Responsibility Accounting, Introduction, Meaning and Definition

Responsibility Accounting read at alloverindia.in website

जैसा कि पहले बताया जा चुका है, प्रबन्धकीय लेखांकन का एक आधारभूत कार्य प्रबंधकीय नियन्त्रण को सुगम बनाना है। इस महत्वपूर्ण कार्य को सम्पन्न करने के लिए प्रबंधकीय द्धारा विभिन्न युक्तियों का प्रयोग किया जाता है। इस क्षेत्र में उत्तरदायित्व

शून्य-आधार बजटन के कदम अथवा उसकी प्रक्रिया, सीमा निर्धारण।

Zero Base Budgeting read at alloverindia.in website

शून्य-आधार बजटन के कदम अथवा उसकी प्रक्रिया (Process of or Steps in Zero-Base Budgeting) शून्य-आधार बजटन में निम्नांकित कदम उठाये जाते हैं: 1 बजटन के उद्देश्यों का निर्धारण:-पहला कदम बजटन के उद्देश्यों का निर्धारण करना होता है। जब उद्देश्य स्पष्ट हो जाता

निष्पादन बजटन, नियंत्रण अनुपात, शून्य-आधार बजटरी, कार्यक्रम बजटन।

PERFORMANCE BUDGETING read out how to work at alloverindia.in

निष्पादन बजटन (PERFORMANCE BUDGETING) निष्पादन बजट को “कार्यों, क्रियाकलापों एवं परियोजनाओं पर आधारित बजट” के रूप में परिभाषित किया गया है। इस प्रकार, निष्पादन बजटन को ऐसी बजटन प्रणाली के रूप में वर्णित किया जा सकता है जिसके अन्तर्गत आदान लागतें