आल ओवर इंडिया डॉट इन पर क्यों अपने बिज़नेस को प्रमोट करें|

0
86
Why Digital Marketing Is Needed All Over India

आल ओवर इंडिया डॉट इन वैब पोर्टल आपके बिज़नेस के लिए कैसे जरुरी है|

आइये जानते हैं आल ओवर इंडिया वैब पोर्टल ऑनलाइन अड्वॅरिस्टमेन्ट के क्षेत्र में कैसे काम करता है| कैसे कोई भी कंपनी अपने आप को, अपने प्रोडक्ट्स को आल ओवर इंडिया वैब पोर्टल पर कम खर्चे में प्रमोट कर सकते हैं| और आल ओवर इंडिया पर आने वाले लोगों को अपनी कम्पनी की तरफ, अपने प्रोडक्ट की तरफ आकर्षित कर सकते हैं| आल ओवर इंडिया डॉट इन वैब पोर्टल जे ऐस ग्रुप ऑफ कॉन्सेप्ट्स की जॉइन्ट वेंचर है| मतलब आल ओवर इंडिया वैब पोर्टल जे ऐस ग्रुप ऑफ कॉन्सेप्ट्स के अधीन है| आल ओवर इंडिया वैब पोर्टल को 2014 में शुरू किया गया था| आज 2017 में वेबसाइट इस काबिल बन चुकी है कि कम्पनियाँ यहाँ पर अपने आप को, अपने प्रोडक्ट्स को आल ओवर इंडिया के ऊपर आने वाले लोगों को दिखा सकती हैं| मतलब ऑनलाइन अड्वॅरिस्टमेन्ट करवा सकते हैं| जे ऐस ग्रुप ऑफ कॉन्सेप्ट्स का विज़न जब 2013 शुरू हुआ तब भी यही था, आज भी यही है, और आने वाले समय में भी यही रहेगा| Low Cost Well Quality क्योंकी यह विज़न जे ऐस ग्रुप ऑफ कॉन्सेप्ट्स की पहचान है और आगे इस पहचान को बढ़ाना है| इसी विज़न के साथ|

अपने बिज़नेस को ऑनलाइन Advertise करवाना क्यों जरुरी है|

आज 21वी सदी में जो बिज़नेस ऑनलाइन नहीं है वह बिज़नेस 20 साल पीछे है भारत में आज इंटरनेट ने अपने पाँव पसार लिए है| यंग बिज़नेस ओनर सबसे पहले बिज़नेस को इंटरनेट पर फैलाने में पहल करते हैं जिसे हम डिजिटल मार्केटिंग कहते हैं| जे ऐस ग्रुप ऑफ कॉन्सेप्ट्स ने आल ओवर इंडिया के जरिये डिजिटल मार्केटिंग की सर्विस को देना शुरू किया है यहाँ पर यह जानना जरुरी है कि डिजिटल मार्केटिंग वहाँ पर सबसे अधिक फायदेमंद रहता है जहाँ इंटरनेट क्लाउड ज्यादा हो और आल ओवर इंडिया डॉट इन डिजिटल मार्केटिंग के लिए बेहतर है| कुछ बिज़नेस ओनर आज अपने बिज़नेस को डिजीटलाईज कर चुके हैं| आज के इस दौर में लोगों का रुझान इंटरनेट की तरफ ज्यादा हो चूका है जबकि न्यूज़ पेपर, टीवी चैनल की अड्वॅरिस्टमेन्ट से लोगो का रुझान कम हो चूका है| बड़े बड़े बॉलीवुड के सितारें कम्पनियों की अड्वॅरिस्टमेन्ट देने के चकर में आज कोर्ट के चकर लगा रहे हैं क्योंकी यहाँ पर 2 नंबर के पैसे का खेल चलता है|

ऑनलाइन अड्वॅरिस्टमेन्ट न्यूज़ पेपर और टीवी चैनल की अड्वॅरिस्टमेन्ट से बेहतर कैसे हो चूका है|

न्यूज़ पेपर, टीवी चैनल की अड्वॅरिस्टमेन्ट से बेहतर इंटरनेट की अड्वॅरिस्टमेन्ट क्यों बेहतर है| न्यूज़ पेपर पर लोग जो अड्वॅरिस्टमेन्ट देखते हैं फिर सोचते है फ़ोन करें या ना करें| इतने में किसी दूसरी अड्वॅरिस्टमेन्ट पर उनकी नजर पड़ जाती है| टीवी चैनल की अड्वॅरिस्टमेन्ट से लोग इतने परेशान हो चुके हैं की पलक झपकते दूसरा चैनल बदल लेते हैं| इंटरनेट की दुनियाँ में डिजिटल मार्केटिंग में यूजर का माइंड सेट होता है और यूजर अड्वॅरिस्टमेन्ट पर क्लिक करने के बाद सीधा कंपनी की वेबसाइट पर चला जाता है और फिर उस वेबसाइट पर बिजी हो जाता है| क्योंकी यहाँ पर यूजर के मन में ये नहीं होता की मैं इस अड्वॅरिस्टमेन्ट पर क्लिक करू या ना करुँ| डिजिटल मार्केटिंग में अड्वॅरिस्टमेन्ट लगाने का तरीका सही होना चाहिए| कुछ इंटरनेट मार्केटिंग की कम्पनियाँ इसको बिज़नेस के रूप में देखती हैं और कुछ कम्पनियाँ इंटरनेट अड्वॅरिस्टमेन्ट में सफल ही नहीं हो पाती क्योंकी कम्पनियाँ अपने प्रॉफिट की तरफ ज्यादा ध्यान देती हैं और एडवरटाइजर को नकार देती हैं जिसकी वजह से एडवरटाइजर इंटरनेट पर अड्वॅरिस्टमेन्ट लगाने से डरते हैं| कुछ इंटरनेट मार्केटिंग कम्पनियों ने कालिंग करने के लिए एक टीम हायर की होती है| जो कंपनियों से संपर्क करते हैं और अपनी नौकरी को चलाने के लिए कालिंग करने वाले टीम के लोग एडवरटाइजर को अपनी बातों को बढ़ा चढ़ाकर बताकर फंसा लेते हैं|

ऑनलाइन अड्वॅरिस्टमेन्ट कम्पनियाँ कैसे काम करती हैं|

डिजिटल मार्केटिंग का मतलब है अपने प्रोडक्ट को इंटरनेट के माध्यम से लोगों तक पहुँचाना मतलब जब आपने किसी वेबसाइट के ऊपर किसी कंपनी की अड्वॅरिस्टमेन्ट लगा दी है और लोग उस वेबसाइट पर बार बार विजिट करते हैं तो लोगों को वह अड्वॅरिस्टमेन्ट बार बार दिखाई देती है मान लिया जाए वह अड्वॅरिस्टमेन्ट उसके फायदे की है तो फिर वह यूजर आपकी कंपनी से जुड़ गया| डिजिटल मार्केटिंग की सर्विस देने वाली कंपनी की वेबसाइट के ऊपर आपने जो अड्वॅरिस्टमेन्ट चला रखी है “का मतलब है” यूजर को एडवरटाइजर की वेबसाइट तक पहुँचाना| और यही काम करेगा आपके लिए आल ओवर इंडिया वैब पोर्टल|

ऑनलाइन अड्वॅरिस्टमेन्ट के बारे में क्यों जानना जरुरी है|

आपने ऑनलाइन अड्वॅरिस्टमेन्ट के बारे में काफी जानकारी यहाँ से पढ़ ली है अब आपको यहाँ पर ये बताना जरुरी है की आल ओवर इंडिया डॉट इन ऑनलाइन  अड्वॅरिस्टमेन्ट करने में भारत की अन्य कम्पनियों से कैसे भिन्न है| आल ओवर इंडिया डॉट इन का होम पेज जहाँ कोई भी कंपनी या प्रोडक्ट की अड्वॅरिस्टमेन्ट चला सकते हैं| दाईं और बाईं ओर लेकिन यहाँ केवल 18 अड्वॅरिस्टमेन्ट ही आ सकती हैं 9 अड्वॅरिस्टमेन्ट दाईं ओर, और 9 अड्वॅरिस्टमेन्ट बाईं ओर| सभी 18 अड्वॅरिस्टमेन्ट अलग अलग होंगी| मतलब यहाँ पर एक दूसरे का कोई भी कॉम्पिटिटर नहीं होगा मान लिया जाये हिमाचल प्रदेश के जिला हमीरपुर की किसी कार शोरूम की अड्वॅरिस्टमेन्ट चली है तो फिर जिला हमीरपुर के किसी दूसरे कार शोरूम की अड्वॅरिस्टमेन्ट नहीं चलाई जाएगी| मतलब हमारा किसी एक केटेगरी के बिज़नेस के साथ डील होगी तो हम केवल उसी का बिज़नेस प्रमोट करेंगे| और इसके लिए मात्र एक छोटा सा मूल्य Rs. 4,000 रूपये लिया जायेगा एक साल और एक महीने के लिए| हमारा विज़न है एडवरटाइजर को ज्यादा से ज्यादा लाभ पहुँचाना| जिस एडवरटाइजर की अड्वॅरिस्टमेन्ट हम आल ओवर इंडिया डॉट इन के होम पर चलाएंगे वह अड्वॅरिस्टमेन्ट किसी भी यूजर को वेबसाइट के किसी भी पेज, पोस्ट के कॉन्टेंट के  दाईं और बाईं ओर हमेशा दिखाई देगी| यही हमारी ऑनलाइन अड्वॅरिस्टमेन्ट की सबसे बड़ी उपलब्धि है|

इस जानकारी का PDF डाउनलोड करें जे ऐस ग्रुप ऑफ़ कॉन्सेप्ट्स वेबसाइट से|

धन्यबाद

जितेंदर शर्मा

डिजिटल मार्केटिंग की कम्पनियों को क्यों जरुरत है| आल ओवर इंडिया डॉट इन पर क्यों अपने बिज़नेस को प्रमोट करें| from DigitalMarketing