कौन है प्रधानमंत्री के सुरक्षा सलाहकार और विदेशी दौरों को सफल बनाने वाले।

0
173
Read about Narendra Modi and ajit doval at alloverindia.in website

आप सबने “अजीत डोवाल” का नाम सुना होगा। “अजीत डोभाल” भारतीय सुरक्षा का वह चेहरा है जिसके नाम तक से दुश्मन देश कांप जाते हैं। परंतु क्या आप किसी दूसरे डोभाल के बारे में भी जानते हैं शायद नहीं जानते होंगे, आज हम आपके सामने दूसरे डोभाल के बारे में कुछ अहम बातें प्रस्तुत करना चाहते हैं आप जरूर पढ़ें। यूं समझ लीजिए की अजीत डोभाल नरेंद्र मोदी का दायां हाथ है तो दूसरा डोभाल बायां हाथ है “यूं समझ लीजिए कि नरेंद्र मोदी दोनों डोभाल के बिना अधूरे महसूस कर सकते हैं।

” क्यों करते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेशी दौरे विदेशी दौरों से हिंदुस्तान के लिए कौन सी सौगात प्रधानमंत्री को प्राप्त होगी। इसके पीछे एक बहुत बड़ा फायदा हो सकता है और फायदा हो भी रहा है। कौन है वह शक्स जिसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए विदेशों के साथ अच्छे संबंध बनाने के ऊपर एक स्ट्रेटजी तैयार की है। कहां से आया है वह शक्स जिसने प्रधानमंत्री को इतना प्रसिद्ध कर दिया है कि आज भारत का डंका पूरे संसार में बजने लगा है।

शक्स की पढ़ाई “लंदन स्कूल ऑफ बिज़नेस” “London School of Business” और “शिकागो यूनिवर्सिटी” “Chicago University” में हुई है। यह शक्स जेई कैपिटल और मोरगन स्टैलिन जैसी मल्टीनेशनल कंपनी में एक बैंकर के पद पर रह चुके हैं। इसके साथ-साथ इंडिया जूस कैंप के हेड भी रह चुके हैं। आप सोच रहे होंगे की एक कंपनी में काम कर चुके इस व्यक्ति का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ क्या संबंध होगा और यह क्या काम करते होंगे जिसके बारे में आज आप यहां पर पढ़ रहे हैं।

जी हां आप यहां पर पढ़ेंगे की यह सब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए एक सफल विदेशी दौरा कैसे बनाया जाए इसके लिए स्क्रिप्ट लिखने का काम कर चुके हैं। लेकिन इससे भी अधिक अनोखी बात यह है कि आजकल यह शख्स कहां पर है और आपको इसके बारे में आज तक कोई पता नहीं चला। जी हां यह शख्स आजकल मीडिया से दूर एक अलग प्रकार की सर्च पर लगे हुए हैं।

अब आप इस शख्स का नाम जान लीजिए इसका नाम है “शौर्य डोभाल” जो कि “अजीत डोभाल” के बेटे हैं आपको यह जानकर हैरानी तो हो रही होगी कि यह कैसे हो सकता है। जी हां यह सच है कि इस शख्स का नाम “शौर्य डोभाल” है जो कि प्रधानमंत्री के सुरक्षा सलाहकार “अजीत डोभाल” के बेटे हैं।

shaurya doval the san of Ajit Doval look at alloverindia.in

“शौर्य डोभाल” की प्रतिभा और कामयाबी के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी भी मुरीद है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अच्छी तरह से जानते हैं कि “शौर्य डोभाल” की प्रतिभा क्या है। हम आपको यह भी बताना चाहते हैं की मोदी सरकार के चेहरों में एक सबसे अहम चेहरा “शौर्य डोभाल” भी है जिसकी एक अलग पहचान है। “भाजपा पार्टी” और “राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ” के चेहरों में सबसे अहम चेहरा “शौर्य डोभाल” भी है जिन्होंने भारतीय जनता पार्टी को एक नए मुकाम पर पहुंचा दिया है और पहुंचाने का काम कर रहे हैं।

“शौर्या डोभाल” की रणनीति पर्दे के पीछे से चलती है जिन्होंने “इंडियन फाउंडेशन” को एक नई कामयाबी की ओर ले जाने में अपनी अहम भूमिका निभाई है। आपको बता दें की “इंडियन फाउंडेशन” की स्थापना महज 6 साल पहले हुई थी। “इंडियन फाउंडेशन” की सबसे खास अहमियत है की यह अपने आप को अकेला एक रिसर्च सेंटर मांगता है।

परंतु यह जानना भी जरूरी है कि इस संगठन के साथ कौन-कौन से लोग जुड़े हुए हैं। इस संगठन के साथ राम माधव, सुरेश प्रभु, एम जे अकबर जैसे चेहरे जुड़े हुए हैं और इन्हीं चेहरों से यह संगठन और भी मजबूत बन जाता है “शौर्य डोभाल” की इस संगठन में एक अहम भूमिका है। आपको बता दें कि “शौर्य डोभाल” के पिता जी “अजीत डोभाल” सक्रिय रुप से “विवेकानंद फाउंडेशन” से  जुड़े हुए हैं

और इसके साथ साथ “इंडिपेंडेंट रिसर्च सेंटर” में शौर्य डोभाल अपनी अहम भूमिका निभा रहे हैं। “शौर्य डोभाल” और “राम माधव” के पास “भारतीय प्रवासी कार्यक्रम” को सफल करने का जिम्मा है। जो कि आजकल इसके ऊपर रिसर्च कर रहे हैं। इसके साथ-साथ “शौर्य डोभाल” और “राम माधव” पर सबसे अहम जिम्मेदारी है की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेशी दौरों को कैसे सफल बनाया जाए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेशी दौरों में अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, कैनेडा जैसे देश शामिल हैं और इन विदेशी दौरों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय प्रवासियों पर एक अहम छाप छोड़ी है। जिसके पीछे इन विदेशी दौरों को सफल बनाने में “शौर्या डोभाल” का बहुत बड़ा योगदान है। विदेशी दौरों में सबसे अहम “सैन फ्रांसिस्को” में जो भाषण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाषण दिया था।

उसकी स्क्रिप्ट खुद छोटे “शौर्य डोभाल” ने ही लिखी थी और जिसके परिणाम 101 प्रतिशत सही निकले। “शौर्य डोभाल” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए विदेशी दौरों पर स्क्रिप्ट ही नहीं लिखते हैं बल्कि दिल्ली में हर बुधवार को दिल्ली में “इंडिया फाउंडेशन” की मीटिंग होती है जिसमें “शौर्य डोभाल” और “राम माधव” अहम भूमिका में होते हैं और यह दोनों नई रणनीतियों पर काम करते हैं।

अब आपको यहां पर यह बताना जरूरी समझते हैं कि “शौर्या डोभाल” नाम क्यों पड़ा इसके पीछे “अजीत डोभाल” का दिमाग है “अजीत डोभाल” ने CRPF के पारंपरिक कार्यक्रम “शौर्य दिवस” से प्रेरित होकर अपने बेटे का नाम “शौर्य डोभाल” रखा था। हो सकता है आपने यह जानकारी पहले कहीं नहीं पढ़ी हो लेकिन “ऑल ओवर इंडिया वेबसाइट” के माध्यम से हम आपको यह एक अहम जानकारी दें रहे हैं।

Purchase Popular Politician Books

Get Online Advertisement Network

Propellerads

Analyze Website For Better SEO

SEMrush