कांग्रेस पार्टी ने राजनीती में अपने पाँव पर खुद कुल्हाड़ी मारने वाला काम किया।

0
76

दोस्तों इस आर्टिकल को अपने दोस्त के साथ शेयर करें और कोशीस करें की ये आर्टिकल लोकसभा और रज्यसभा के सांसदों तक पहुंच जाये।



कांग्रेस पार्टी ने भारत के आजाद होने के बाद सबसे ज्यादा शासन किया है हर इन्सान को पता है अगर BJP सत्ता में आई तो ना के बराबर, तो इसमें गलत क्या है अगर प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने कहा सबसे ज्यादा घोटाले कांग्रेस ने किये, सबसे ज्यादा भ्रस्टाचार कांग्रेस ने किया, सबसे ज्यादा काला धन कांग्रेस ने इकठा किया और देश को कंगाल बना दिया।

तथ्य: भारत देश की जनता पर सबसे ज्यादा हकूमत करने वाली कांग्रेस सरकार है। इसीलिए अभी भी कुछ लोगों का घ्यान कांग्रेस पार्टी पर केंद्रित है। विदेशी देशों के साथ सबसे ज्यादा गठबंधन कांग्रेस सरकार के हुए भारतीय नागरिकों को नौकरी करने के लिए विदेशी देशों की तरफ जाना पड़ा जरा सोचए कांग्रेस सरकार ने 60 साल भारत पर शासन किया इस अन्तराल में तो विदेशी लोगों को भारत में नौकरी करने के लिए आना चाहिए था। 60 साल में तो भारत वर्ल्ड की पॉवर बन जाता, परन्तु कांग्रेस सरकार की नीतियों ने भारत को कंगाल कर दिया। भारत का पैसा विदेशों में पहुँच गया।  2014 के चुनावों में कांग्रेस पार्टी की मात्र 40 के करीब सीटें आई परन्तु 2019 में हमें नहीं लगता 10 सीटों से ज्यादा कांग्रेस पार्टी ला पायेगी कांग्रेस पार्टी ZERO लेबल पर आ चुकी है।

कहते हैं हर बुरे समय का अन्त होकर रहता है। भारत एक ऐसा देश है जो दुनिया के बड़े देशों में आता है अगर जनसख्यां की बात करें तो भारत देश दूसरे नंबर पर आता है। भारत देश के पास 65% युवा लोग हैं। भारत एक ऐसा देश है जिसमे बड़े बड़े उधोगपति है। उधोगपतियों ने ये पैसा कहाँ से कमाया भारत से और कहाँ से। आज इन उधोगपतियों के पास इतना पैसा है कि ये उधोगपति भारत में एक ऐसी इंडस्ट्रीज खड़ी कर सकते हैं कि भारत के लोगो को नौकरी करने के लिए विदेशी देशों की तरफ नहीं जाना पड़ेगा भारतीय केबल विदशो में घूमने जाएंगे नौकरी करने नहीं। “यह बात गलत नहीं है कि प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने बतौर गुजरात के मुख्यमन्त्री रहते गुजरात में विकासः नहीं किया” गुजरात काफी विकाशील प्रदेश बन चूका है गुजरात में एक नई क्रांति का आरम्भ हुआ है। और इसी क्रान्ति की जरुरत पुरे भारत वर्ष में है।

कांग्रेस सरकार का स्वार्थी तना तो शाखाएं सामाजिक कैसे हो सकती हैं। कांग्रेस सरकार भारतीय मूल नहीं है इसका निर्माण विदेशी धरती पर हुआ है भारत में इसने अपने पाँव पसारे। BJP भारतीय मूल है जिसका निर्माण भारतीय घरती पर हुआ तो इसका अर्थ यह हुआ कि हम सभी भारतीयों को मिलकर BJP को आगे बढ़ने में मदद करनी चाहिए।

आज की स्थिति: सोचें जरा जिन देशों के नाम हम जानते तक नहीं थे उन देशों में हमने अपने देश के प्रधानमन्त्री को जाते देखा। प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने एक दोस्ती का हाथ क्या बढ़ाया भारत देश की क्षमता को दुनियाँ के सभी देशों से अवगत करवाया। सच बात तो ये है कि हर भारतीय नागरिक सर उठाकर कहता है हम भारतीय हैं। और एक नई क्रान्ति की ओर भारत बढ़ चुका है।

परन्तु इस क्रान्ति को रोकने के लिए कांग्रेस पार्टी ने कोई कसर नहीं छोड़ी है और कांग्रेस कोई कसर छोड़ना भी नही चाहती। भारत वर्ष के हजारों लोग करोड़ो के हिसाब से सरकार को टैक्स देतें हैं। और इसी टैक्स से भारत देश की सरकार चलती है लोग अपने राज्यों से एक – एक सांसद वोटों द्धारा चयनित करके भेजते हैं। ताकि ये सांसद लोगों के लिए सुख सुविधाओं के साधनों का निर्माण कर सकें और एक नए भारत का निर्माण कर सकें।

राजनेताओं और सांसदों की अभद्र छवि: जो राज नेता जितने के बाद सप्त लेते हैं। की हम भारत कि मान प्रतिष्ठा को बनाये रखेंगे और भारतीय धन सम्पदा को लोगों के हितों के लिए इस्तेमाल करेंगे उन्हीं सांसदों ने मानसून सत्र में भारत के संसद की मान प्रतिष्ठा की धज्जियाँ उड़ाई। सारे भारत वर्ष के लोगों ने देखा कि किस तरह कांग्रेस के नेताओं ने सांसद के कार्यों में मुश्किले उत्पन की। और सांसद भवन में वो कार्य किये जो आज तक नहीं हुए। 2014 के चुनावों में भारत के लोगों ने सरकार बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी को वोट दिए और पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई भारत की जनता ने सरकार चलाने की कमान पूरी तरह से भारतीय जनता पार्टी को दे दी है। और जो कांग्रेस पिछले 60 साल से भारत देश पर हकूमत कर रही थी उसको दर किनार कर दिया और 2014 के चुनावों में मात्र 40 सीटें कांग्रेस पार्टी हासिल कर पाई इसका सीधा अर्थ यह हुआ की भारत देश के लोगों ने सरकार चलाने की अनुमति भारतीय जनता पार्टी को दे दी है। अब इतनी बड़ी हार को कांग्रेस पार्टी पचा नहीं पा रही है। और कांग्रेस पार्टी की जो छवि मौनसून सत्र के दौरान देखने को मिली ये तो वो बात हो गई “अपने पाँव पर खुद कुल्हाड़ी मारना”

सभी सांसदों को लोगों के निर्देश: लोगों का कहना है की कांग्रेस पार्टी के पास इतना बहुमत भी नहीं है की वह विपक्ष में बैठ सकें। कांग्रेस पार्टी की नीतियों को भारत के लोगों ने दरकिनार कर दिया है और यही सच्चाई है कांग्रेस पार्टी के पास कोई भी ऐसा नेता नहीं है कि वह प्रधानमन्त्री का दावेदार बन सकें भारतीय जनता पार्टी के पास नरेन्द्र मोदी के रूप में एक दमदार नेता था जिसके बल पर भारतीय जनता पार्टी ने 2014 के चुनावों में एक ऐतिहासिक जीत हासिल की। सभी लोग मानसून सत्र में सांसदों के व्यवहार से दुःखी हैं। कांग्रेस पार्टी के सांसदों ने मानसून सत्र के किसी भी दिन कार्यकाल को नहीं चलने दिया और रोजाना लाखों रुपए का नुकसान किया। जारी मतों के अनुसार संसद भवन में सांसदों के वेतन और अन्य सुविधायें, इन सब पर करोड़ो रुपए का खर्चा होता है कहाँ से आता है ये पैसा, जनता के द्धारा जो लोग टैक्स भरते हैं वहीं से संसद भवन का खर्चा चलता है। अगर कांग्रेस के सांसदों का यहीं व्यवहार रहा तो अगले चुनावों में वह विपक्ष में बैठने के लायक भी नहीं रहेंगे।

जनता का कहना है कि संसद भवन में बैठकर सांसद जो आरोप प्रत्यरोप लगाते हैं। उनके लिए जनता ने आपको वोट नहीं दिए हैं। जनता ने आपको वोट इसलिए दिए हैं। ताकि सांसद संसद भवन में बैठकर लोगों की समस्याओं को सुलझा सकें।

निर्देश: लोगों का कहना है। अगर कांग्रेस पार्टी का कोई भी नेता आने वाले चुनावों में प्रधानमन्त्री पद का दावेदार बनना चाहता है तो जाओ किसी एक राज्य को विकासः की तरफ लेकर जाओ और कुछ करके दिखाओ तभी कांग्रेस पार्टी आने वाले समय में सत्ता में आ सकती है जिस तरह नरेन्द्र मोदी जी ने पहले गुजरात में कुछ करके दिखाया तभी देशवासियों ने उन्हें प्रधानमन्त्री बनाया है।

पढ़ने के बाद आप इस वेब पेज को अपने मित्रों के साथ शेयर करना ना भूले। आप हमेंफेसबुक,ट्विटर, गूगल प्लस, पिंटरेस्ट,लिंकेडीनऔर रेडिट पर फॉलो कर सकते हैं।