राजबाड़ा इंदौर की पहचान है अब केफे भड़ास आधुनिक इंदौर की नई पहचान है

0
86
Rajbara Indore's identity is now Café Bhadas is the new identity of modern Indore.

इंदौर में आजकल केफे भड़ास की चर्चा चल रही है| भड़ास भारत का पहला ऐसा केफे है जहां आप अपने तरिके से अपने गुस्से उससे जुडी निराशा जलन चिड़चिड़ाहट इत्यादि नकारात्मक भावो को व्यक्त कर सकते हैं| वह भी पूरी सुरक्षा व गोपनीयता के साथ ताकि आपके व्यावसायिक पारिवारिक रिश्तो पर असर न हो|

प्रत्येक शहर की अपनी पहचान होती है| यह पहचान उसकी कुछ विशेषता जैसे ऐतिहासिक स्मारक, खान पान, मार्केट या अन्य कुछ खासियत से बनती है| इंदौर को मालवा का गौरव और मीनी मुंबई कहा जाता है पर इस शहर का दिल आज भी राजबाड़ा में धड़कता है| राजबाड़ा सिर्फ होल्कर कालीन महल नहीं है यहां के चौक में शहर के बाशिदों की जान बसती है| जश्न मानना हो, विरोध प्रकट करना हो या दुःख में हो सभी अवसरों पर राजबाड़ा पूरे शबाब पर होता है फिर चाहे आधी रात का भी समय हो तो उत्साह कम नहीं होता है|

आधुनिक इंदौर में भड़ास केफे शहर ही पहचान बन गया है| भारत का पहला ऐसा केफे है जहां गुस्से को व्यक्त करने की विशेष सुबिधा है| यहाँ पर आप तोड़फोड़ करके, चिल्लाकर अथवा रोकर तो अपना गुस्सा व्यक्त कर सकते हैं परन्तु भड़ास की एक और सुविधा ने इसे विश्व का पहला ऐसा केफे बना दिया है जहाँ गुस्से को शान्तिपूर्ण तरिके से दूसरी सकारात्मक दिशो में मोड़ा जा सकता है|

भड़ास में सुरक्षा व्यवस्था के साथ आप अकेले में ऑफिस, परिवार दोस्त या प्रिय के प्रति अपने गुस्से को व्यक्त करने के लिए उससे सम्बंधित सामान पूरी ताकत से तोड़ सकते हैं| रोने, चिल्लाने व अपशब्दों का प्रयोग भी करे तो कोई दूसरा नहीं सुनेगा और मन की भड़ास निकल जाएगी, मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि गुस्सा सबसे अधिक एनर्जी वाला नेगेटिव इमोशन है और इसे सही दिशा में मोड़ दिया जाए तो रचनात्मक एनर्जी बन सकती है| भड़ास में आप सगींत के वाध बनाकर पेटिंग करके, बचपन के खेलो से या अन्य पसदीदा काम करके अपनी एनर्जी को सकारात्मक मोड़ दे सकते है| यकीन मानिए इतनी सारी खूबियों के साथ भड़ास आधुनिक इंदौर की पहचान बन गया है जैसे राजबाड़ा के बिना इंदौर की कल्पना नहीं की जा सकती है वैसे ही आने वाले समय में भड़ास के बिना इंदौर अधूरा लगेगा| अपने शहर की इस नई पहचान को देखने और बाहर से आने वालों को दिखाने का तो आपका हक़ बनता है|

जब कोई भड़ास पर आता है तो स्वय ही अपने गुस्से को बाहर निकालने के लिए तत्पर हो जाता है| अभी तक इंदौर में आने वाली कई बड़ी हस्तियों ने भड़ास का अवलोकन किया और इसे इंदौर की नई पहचान बताया है|

और अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें
अतुल मलिकराम
+91-97550-20247