हिमाचल प्रदेश की वीरभद्र सरकार प्रदेश 24 घण्टे लोगों को बिजली देने में असफल रही है।

0
6678
District Bilaspur Electricity Department report on alloverindia.in

जब आप लोग इस रिपोर्ट को पढ़ेंगे तो आपको सारा पता चलेगा।

ब से वीरभद्र सरकार (Veer Bhadra Government) सत्ता में आई है तब से लेकर जिला बिलासपुर (District Bilaspur) में बिजली का अचानक चले जाना आम बात हो गई है। बिजली (Electricity) के दफ्तरों में 9.00 के आस – पास अगर आप फ़ोन करते है तो फ़ोन उठाने की उम्मीद न करे क्योंकि ये सभी बड़े अधिकारी या तो 10.00 बजे, 10.30 बजे, या फिर इनका टाइम होता है 11.00 बजे का, और लेट आये भी क्यों नही पूछने वाला कौन है, अगर कोई पूछने वाला होता तो 9.00 बजे बिजली दफ्तर में फ़ोन उठाते। अधिकारियों को महीने की तनख्वाह से मतलब है काम के बारे में कौन पूछता है। “वीरभद्र सरकार” (Veer Bhadra Government) जी आपकी सरकार में ये सब क्या चल रहा है।

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के लोगों के मन में एक सवाल है अगर हिमाचल प्रदेश में बिजली तैयार होती है। तो हिमाचल प्रदेश में बिजली का बार – बार जाना ये थोड़ा असमंजस भरा सवाल है। और यहाँ से कई सारे सस्पेंस (Suspense) लोगों के दिमाग में आते है।

District Bilaspur Electricity Department report on alloverindia.in

क्या हैं वो सारे सस्पेंस जो वीरभद्र सरकार (Veer Bhadra Congress Government ) को सवालों के कटघरे में लाकर खड़ा करते हैं।



  1. वीरभद्र सरकार के आने से बिजली के कट लगने आम बात हो गई है। और इस समस्या का हल निकालने में वीरभद्र सरकार असमर्थ (Unable) रही है और जिन डिपार्टमेंट (Department) को ये जिम्मेदारी (Responsibility) सौंपी गई है उन्हें कोई परवाह नहीं है।
  2. वीरभद्र सरकार से पहले महीने में दो बार बिजली जाती थी और इसके लिये महीने की 10 तारीख और 25 तारीख रखी गई थी और जिससे लोग सहमत भी थे। अगर इसके अलावा बिजली डिपार्टमेंट (Electricity Department) को कोई मेंटिनेंस (Maintenance) का काम करना होता तो समाचार पत्रों (News Paper) में न्यूज़ आती थी कि इस तारीख को बिजली बंद रहेगी। जिला बिलासपुर में ये सारे रूल्स बंद पड़े हैं। सारे के सारे दिशा निर्देश (The guidance) खत्म कर दिए गये।
  3. वीरभद्र सरकार के आते ही बिजली के दामों में जहां इजाफा किया गया और इसके बाबजूद लोग अपने अपने बिजली बिलों का भुगतान कर रहे है तो क्या हिमाचल प्रदेश इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड को मुनाफ़ा नहीं हो रहा ये एक सवाल मन में जरूर आता है। क्या हिमाचल प्रदेश इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड (H.P Electricity Board) अपने कर्मचारियों को महीने की तनख्वाह नहीं दे पा रहा जिसके चलते कर्मचारियों को प्रदेश की इस बिजली के बार – बार जाने की समस्या का समाधान करने में आलस्य किसलिये।
  4. मीडिया की प्राप्त जानकारी के अनुसार घुमारवीं डिवीज़न (Guhmarwin Division) के उच्च अधिकारियों जेई, एस डी ओ, एक्शन का कहना है की बिजली के बार बार जाने का कारण सलापड़ में स्थित 33 के वि (KV) के प्लेटफार्म पर जम्पर पुराने हो चुके हैं। जिसकी वजह से बिजली बार बार जाती है। जब सर्दियों में बिजली बार – बार जा रही है तो गर्मियों में बिजली की हालत क्या होगी ये तो हिमाचल प्रदेश के इलैक्ट्रिसिटी बोर्ड (H.P Electricity Board) को ही पता होगा।
  5. जिला बिलासपुर के घुमारवीं डिवीज़न के अन्तर्गत हटवाड़ सौंखर (Hatwar Sounkhar) गाँव में ट्रांसफार्मर (Electricity Transformer) को लगे हुए 14 से 15 साल हो चुके है और ट्रांसफार्मर के साथ लगे खम्बे के चिमनी मिटी के फ्यूज ख़त्म हो चुके हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार डिपार्टमेन्ट के पास यहाँ लगाने के लिए फियुज नहीं हैं। जिसके चलते तारे नंगी पड़ी हैं और हवा चलने से ये टूट जाती है। क्या हिमाचल प्रदेश इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड को जरुरत के अनुसार सामान उपलब्ध करवाने में कोई समस्या है जनता को तो नहीं लगता क्योंकि हिमाचल प्रदेश इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड अन्य राज्यों (Different States) को बिजली उपलब्ध करवाता है जिसका करोड़ो (Tens of millions) में मुनाफ़ा होता है। तो ये पैसा कहाँ जाता है इतना बड़ा इलैक्ट्रिसिटी प्लेटफार्म है हिमाचल प्रदेश के पास और खुद हिमाचल प्रदेश में बिजली की ये हालत है।
  6. अगर हम हिमाचल प्रदेश की कांग्रेस सरकार (Congress Government) के दो सालों की बात करें तो अपरोक्षीमेट (Approximate) 30 हॉर्स जिला बिलासपुर में महीने की बिजली बंद रहती है ये अभी तक का सही अनुमान है जिला बिलासपुर में रोज रात को बिजली का अचानक चले जाना आम बात हो गई है और कभी – कभी तो ये बिजली सुबह ही आती है इलेक्ट्रिसिटी डिपार्टमेन्ट (Electricity Department) में कर्मचारियों की कमी है, इलेक्ट्रिसिटी सामान (Electricity Material) की भारी कमी है जिसके चलते इलैक्ट्रिसिटी डिपार्टमेन्ट लोगों को बिजली की सही सर्विसेज नहीं दे पाते।
  7. वीरभद्र सरकार जहाँ बड़े – बड़े उधोगों (High Industries) को लगाने के दावे कर रही है तो उन उधोगों के लिए बिजली उपलब्ध कहा से करवाएगी जबकि प्रदेश के जिलो में ही बिजली की ये हालत है।

घुमारवीं डिवीज़न से कांग्रेस के एमएलए श्री राजेश धर्माणी, जई साहब, एस डी ओ साहब, एक्शन साहब और अन्य उच्च अधिकारी सबके पास अपनी – अपनी जिम्मेदारियाँ है पर क्या ये सब उच्च अधिकारी अपनी ड्युटी पर खरे उतरे है। जनता को इनकी ड्युटी के बारे में अभी तक पता नहीं चला तो फिर सरकार ने इन सभी उच्च अधिकारियों (Seniors) को किस लिये बिठाया है अगर इनके रहते भी बिजली की ये हालत है तो फिर इनका क्या काम है।

जिला बिलासपुर (District Bilaspur) के सभी लोग इस इलैक्ट्रिसिटी डिपार्टमेन्ट (Electricity Department) की रिपोर्ट के बारे में क्या कहते है इसके लिए नीचे अपने विचार प्रकट करें।

पढ़ने के बाद आप इस वेब पेज को अपने मित्रों के साथ शेयर करना ना भूले। आप हमें फेसबुकट्विटर, गूगल प्लस, पिंटरेस्ट, लिंकेडीन और रेडिट पर फॉलो कर सकते हैं।