चंद्रयान 1 ने चांद पर पानी के होने का नक्शा बनाने में की मदद

0
139

भारत ने अक्टूवर 2008 में चन्द्रयान 1 को प्रक्षेपित किया था जो 2009 तक सक्रीय रहा था| अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने भारत के चन्द्रयान 1 की मदद से चाँद पर पानी की मौजूदगी की मैपिंग की है| चन्द्रयान 1 में लगे नासा के उपकरण मून मिनरोलॉजी मैपर से चाँद के विभिन क्षेत्रों में पानी की उपस्थिति को चिन्हित किया गया है और चाँद की मिट्टी की सबसे ऊपरी सतह में मौजूद जल के साक्ष्यों का पहला वैश्विक नक्शा तैयार किया गया है|

चाँद के नक़्शे को तैयार करना धरती के नक़्शे को तैयार करने जितना आसान नहीं है क्योंकी पृथ्वी का नक्सा तैयार करने के दौरान भूगर्वीय ब्योरों के बारे में सदेंह होने पर जानकारी की पुष्टि के लिए वैज्ञानिक व्यक्तिगत रूप से उस स्थान पर पहुँच भी सकते हैं लेकिन चाँद पर ऐसा संभव नहीं है| यह पहला अवसर है जब चाँद में हर जगह पानी की मौजूदगी का पता चला है|

यह भी पढ़े: ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदुस्तान आर्मी में शामिल होने जा रहे हैं 125 करोड़ जवान पढे कैसे।

अंतरिक्ष विज्ञानी अब इस बात का पता लगाने में जुटे हैं कि चाँद पर पाए वाले पानी का अंतरिक्ष यात्रियों के लिए पेयजल के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है या नहीं| इसके अलावा क्या उससे ऊर्जा हासिल की जा सकती है| चाँद पर पाया गया पानी हाइड्राक्सिल के रूप में है| इसमें हाइड्रोजन और ऑक्सीजन का एक -एक अणु है| वैज्ञानिकों ने यह निष्कर्ष वर्ष 2009 में प्राप्त पानी और उससे जुड़े मॉलिक्यूल का विश्लेषण कर निकाला है| ब्राउन यूनिवर्सिटी की शुआई ली ने बताया कि चाँद की सतह पर हर जगह पानी मौजूद है और यह केवल ध्रुवीय क्षेत्रों तक सिमित नहीं है|

यह भी पढ़े: Latest high featured Smartphone Micromax Canvas 6 Pro (E484)

चाँद पर पानी की मात्रा के बारे में नई बातें पता चली हैं उनके अनुसार चाँद के ध्रुव की ओर जाने पर पानी का स्तर बढ़ता जाता है लेकिन अन्य क्षेत्रों में भी इसकी उपलब्धता में ज्यादा अंतर नहीं पाया गया है| उच्च अक्षाशीय क्षेत्रों की ओर पानी की अधिकतम औसत मौजूदगी 500-750 पी.पी.एम. तक पाई गई है| यह ज्यादा नहीं है लेकिन यह कुछ भी नहीं से बेहतर है| चाँद पर पानी बड़े पैमाने पर एक समान ही मिलता है मगर उसके मध्य यह कम हो जाता है अपवादों के बाबजूद अध्ययन में बड़े पैमाने पर पानी के लिए सौर हवा को जिम्मेबार ठहराया गया है|

यह भी पढ़े: मिल गई महाविनाश की शक्ति। जिससे भारत की सैनिक शक्ति और भी बढ़ जाएगी।

वैद्यानिको के अनुसार अब जब हमारे पास ये मात्रात्मक नक्से हैं जहाँ दिखाया गया है कि पानी कहाँ है और किस मात्रा में है तो हम यह सोचना शुरू कर सकते हैं| इस पानी का इस्तेमाल अंतरिक्ष यात्री के पीने के लिए या ईंधन बनाने के काम में लाया जा सकता है या नहीं| जिस तरह से चाँद पर पानी फैला हुआ है उसके स्त्रोत के बारे में भी सुराग मिलते हैं| चाँद पर पानी बड़े पैमाने पर एक समान ही मिलता है मगर उसके मध्य में इक्वेटर की तरफ यह कम हो जाता है| अपवादों के बाबजूद अध्ययन में बड़े पैमाने पर पानी के लिए सौर हवा को जिम्मेबार ठहराया गया है उदाहरण के लिए शोधकर्ताओं ने चाँद की मध्य रेखा की तरफ इक्वेटर के पास पानी की औसत से अधिक पाया जहां मिट्टी में पानी की मात्रा कम थी|

यह भी पढ़े: इस मोबाइल टेक्नोलॉजी को जानकर आपके होश उड़ जायेंगे 2017 मोबाइल।

यह भी पाया गया है कि चाँद पर दिन के दौरान 60 डिग्री से कम के अक्षांश पर पानी की एकाग्रता में परिवर्तन होता है| सुबह और शाम में गीला होता है तो दोपहर के आसपास करीब करीब पूरा सुख जाता है| यह उतार चढ़ाव 200 पी.पी.एम. तक हो जाता है| यह भी सम्भावना है कि चाँद की सतह से पानी निकालने के बाद वह दोबारा वहाँ जमा हो सकता है| हालाँकि इस सम्बन्ध में अभी और शोध किए जाने की जरुरत है| 

जब दुकान आपके सामने हो तो आप अपने घर से कोई रोजाना इस्तेमाल होने वाली वस्तु को खरीदने अपनी नजदीकी की दुकान में क्यों जायेंगे| आप हमें बतायें आपको ऑनलाइन क्या खरीदना है| आप हमें बताएँगे और हम आपके लिए लाएंगे| ये रही आपकी ऑनलाइन शॉप| 

amazon diwali dhamaka all over india shopping here   

रुकिए यहाँ पढ़ना जरुरी है:  

आल ओवर इंडिया वैब पोर्टल भारत के सभी राज्य के लोगों के साथ एक विनती करना चाहता है| अगर आपके आस पास किसी के साथ कोई अन्याय होता है और आप उसके खिलाफ आवाज उठाना चाहते हैं आप उसकी न्यूज देना चाहते हैं, कोई सामाजिक समाचार देना चाहते हैं| तो आप आल ओवर इंडिया वैब पोर्टल पर दे सकते हैं हम आपके द्वारा दी गई जानकारी कोई आल ओवर इंडिया वेबसाइट पर पब्लिश करेंगे| अगर आप भारत देश या फिर अपने किसी राज्य के बारे में कुछ सुझाव देना चाहते हैं तो भी आप हमें लिखकर दे सकते हैं| हमारा मोबाइल नंबर है 98162-58406 और ईमेल आईडी है jsconcept2013@gmail.com हमारा फेसबुक पेज लाइक करें|