बनाइये अपनी जिंदगी को बेहतर LIC की नई जीवन बीमा आनंद पॉलिसी से।

0
448
Make Your Life Better With LIC read at alloverindia.in

भारतीय जीवन बीमा निगम LIC को यहाँ निचे सन्दर्भित अनुसूची में उलिखित बीमित व्यक्ति से एक प्रस्ताव तथा घोषणा और प्रथम प्रीमियम की प्राप्ति होने पर और उक्त प्रस्ताव तथा घोषणा और उसमें दिये गए और सन्दर्भित विवरण इस बीमा पॉलिसी के आधार पर उक्त प्रस्तावक और निगम द्वारा उसे स्वीकार किये जाने पर इस अनुसूची में निर्धारित बाद के प्रीमियमो पर विचार करते हुए और उनकी उचित प्राप्ति निगम के उस शाखा पर हितलाभ का बिना व्याज के भुगतान करने के लिए यहाँ पर उस व्यक्ति या व्यक्तियों को यह पॉलिसी दी जाती है।

जिन्हें उक्त अनुसूची के अनुसार यह देय होगी लेकिन इन लोगों के संबंध में निगम की संतुष्टि के लिए इस बात का प्रमाण प्रस्तुत करने पर की अनुसूची में निर्धारित रकम के होने पर उस व्यक्ति या व्यक्तियों का हक़ जो भुगतान का द्वारा कर रहा हो/रहे हैं कि प्रस्ताव में उल्लिखित बीमित व्यक्ति की आयु की सत्यता के बारे में भी होगा यदि वह पहले नहीं दिया गया हो और एततद्वारा यह घोषित किया जाता है यह पॉलिसी इस के पृष्ठभाग पर अंकित शर्तों और सुविधाओं के आधीन होगी तथा उपयुक्त अनुसूचि निगम द्वारा अंकित प्रत्येक दृष्टांत पॉलिसी के अंग माने जाएंगे जब हम कोई भी जीवन पॉलिसी लेते हैं तो उसमें कौन-कौन सी बातों का ब्यौरा देना पड़ता है आइए नीचे देखते हैं।

LIC एजेंसी से आप करोड़पति बन सकते हैं।

सबसे पहले आपकी पॉलिसी संख्या लिखी होती है।

पॉलिसी प्रारंभ करने की तिथि भी दी होती है।

तत्पश्चात जोखिम की तिथि भी दी गई होती है।

बीमा योजना एवं अवधि भी दी होती है।

जब आपका बीमा पूरा होगा उसकी तिथि भी दी गई होती है।

आपको अपने बीमा की कुल कितनी रकम चुकानी है उसका ब्यौरा।

दुर्घटना हितलाभ बीमा धन इसके बारे में भी पूछा जाता है।

प्रतिमाह प्रति, 6 महीने बाद और प्रतिवर्ष कितना प्रीमियम किस्त देना है उसका ब्यौरा।

LIC का दुर्घटनावश मृत्यु तथा अपंगता लाभ राइटर किस्त कितना प्रीमियम देना है उसका ब्यौरा।

कुल प्रीमियम किस्त कितनी देनी है उसका ब्यौरा।

प्रीमियम कौन सी तिथि को देना है उसके बारे में।

आप प्रीमियम का भुगतान कैसे करेंगे उसकी विधि।

पॉलिसी का प्रीमियम कौन सी अंतिम तिथि को देना है उसके बारे में।

बीमित व्यक्ति की जन्मतिथि, बीमित व्यक्ति की आयु, क्या आयु स्वीकृत है, इस का ब्यौरा।

आप की बीमा पॉलिसी किस अधिनियम के अंतर्गत आती है उसका ब्योरा भी दिया होता है। उसके बाद बीमित व्यक्ति की सारी जानकारी एक कॉलम में दी गई होती है। बीमा धन किसको मिलेगा। आईए इसके बारे में थोड़ा सा पढ़ लेते हैं प्रस्तावक या बीमित व्यक्ति या बीमा अधिनियम 1931 के अनुच्छेद 38 के अंतर्गत उसे समनुदेशीति या बीमा अधिनियम 1938 के अनुच्छेद 39 के अंतर्गत उसके समितियों या प्रामाणिक प्रबंधकों या प्रशंसकों या अन्य विधिक प्रतिनिधियों को दिया जाएगा। जिन्हें उसकी संपदा या केवल इस पॉलिसी के अंतर्गत देय राशि के लिए भारत संघ के किसी राज्य या किसी क्षेत्र के किसी न्यायालय से अपने प्रतिनिधि होने का प्रमाण पत्र देना होगा। प्रीमियम चुकाने की अवधि के बारे में निर्धारित अंतिम किस्त भुगतान की तिथि तक या इसके पूर्व बीमित व्यक्ति की मृत्यु होने पर उसे क्या फायदे होंगे इसका विवरण नीचे दिया गया है। निगम की ओर से उपयुक्त शाखा कार्यालय में हस्ताक्षरित जिसका पता अंतिम चरण में दिया गया है। और जिस पते पर पॉलिसी के संबंध में सभी पत्रचार किया जाना है उसका ब्यौरा मौजूद है आप आगे पढ़ सकते हैं।

LIC नई जीवन आनंद पॉलिसी में क्या शर्ते व सुविधाएं हैं।

*आयु का प्रमाण पत्र देना पड़ता है।

*प्रीमियम का भुगतान आप कैसे करेंगे इसके बारे में पूछा जाता है।

*अगर पॉलिसी बंद हो जाती है तो उसे पुनः चलाने का प्रावधान।

*जब्ती से सुरक्षा संबंधी नियम क्या होते हैं।

*कर, सेवाकर से संबंधित ब्यौरा।

विशेष परिस्थितियों में जब्ती का ब्यौरा।

आत्महत्या के अंतर्गत यह पॉलिसी अवैध हो जाएगी।

अभ्यर्पण मूल्य के बारे में जानकारी।

पॉलिसी ऋण के बारे में।

समनुदेशन और नामांकन के बारे में।

LIC का दुर्घटना बस मृत्यु एवं अपंगता हितलाभ राइडर।

निगम के लाभ में प्रतिभागिता।

दावे के लिए सामान्य अपेक्षाएं।

वैधानिक परिवर्तन।

कूलिंग ऑफ़ अवधि।

लाभ चित्रण। 

नई जीवन बीमा आनंद पॉलिसी से सम्बंधित किताब ख़रीदे।